एरियल डिटर्जेंट ने पीवीआर के साथ कराई ‘कैप्टन मार्वल’ की विशेष स्क्रीनिंग

इशतकांत कपूर

कैप्टन मार्वल की एक विशेष स्क्रीनिंग समारोह में टीवी व फिल्म जगत के जाने—माने अभिनेता रवि दुबे अपने जीवन की दो MARVEL’OUS महिलाओं, अपनी पत्नी सरगुन और मां सुधा के साथ शामिल हुए।

नई दिल्ली/ महिला दिवस के मौके पर पी एंड जी के प्रमुख डिटर्जेंट ब्रांड एरियल ने फिल्म- कैप्टन मार्वल की एक विशेष स्क्रीनिंग की मेजबानी के लिए पीवीआर के साथ साझेदारी की। कैप्टन मार्वल, मार्वल कॉमिक्स के चरित्र कैरोल दान्वर पर आधारित वर्ष 2019 की महिला सुपरहीरो फिल्म है। लोकप्रिय रियल लाइफ कपल- रवि दुबे, सरगुन मेहता के साथ रवि की मॉम सुधा दुबे भी पीवीआर दिल्ली स्थित सेलेक्ट सिटी मॉल में कैप्टन मार्वल की विशेष स्क्रीनिंग में मौजूद थीं। उन्होंने रिश्ते में लैंगिक समानता और घर में एक समान होने की आवश्यकता पर जोर दिया। सरगुन और रवि ने माँ सुधा को छोटी उम्र में उन्हें कपड़े धोने और खाना पकाने जैसे घरेलू कामों का महत्व बताने के लिए भी धन्यवाद दिया, जिससे वे आज एक सुपर कपल बन गए।

मशहूर अभिनेत्री सरगुन मेहता ने कहा कि रवि एक बेहतर पार्टनर हैं, और वे उनकी जरूरतों और आवश्यकताओं का ख्याल रखने के साथ ही हमेशा मेरे लिए उपलब्ध रहते हैं। घर हो या कार्यस्थल, उनमें स्वाभाविक समानता है। उन्होंने कहा कि इसका श्रेय वे अपनी मॉम सुधा को देना चाहेंगी, साथ ही रिश्ते में समानता का विश्वास रखने वाले बेटे के लिए भी उनका धन्यवाद करती हूं। रवि दुबे ने कहा कि यह पहली बार है जब वे अपनी सुपरवुमन- सरगुन और अपनी माँ दोनों के साथ एक इवेंट में शामिल हो रहे हैं। उन्होंने खुद को रोमांचित महसूस किया और इसके लिए एरियल के प्रति आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि सरगुन और माँ दोनों का उनके जीवन पर गहरा प्रभाव रहा है। उन्होंने कहा- सरगुन मेरे लिए परफेक्ट पार्टनर रही हैं, और मैं हर दिन उनके लिए ऐसा ही बनने की कोशिश करता हूं। रवि की माँ सुधा दुबे ने कहा कि मुझे अपने बच्चों रवि और सरगुन पर बहुत गर्व है! जिस तरह से उन्होंने अपने कॅरियर और व्यक्तिगत जीवन को सफलतापूर्वक संतुलित किया है वह एक जोड़े के रूप में उनके बेहतर समीकरण को बताता है। मैंने यह देखा है कि चाहे वह घर का प्रबंधन हो, वित्त प्रबंधन हो या फिर एक-दूसरे के माता-पिता का ख्याल रखने का,वे अपनी जिम्मेदारियों को साझा करते हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें गर्व है कि उनका बेटा सरगुन के बराबर का साथी साबित हो रहा है। माता-पिता के तौर पर अगली पीढ़ी को एक समान पीढ़ी के रूप में ऊपर उठाने की जिम्मेदारी हमारी है। सुधा दुबे ने कहा कि वे सभी माता-पिता को अगली पीढ़ी को #ShareTheLoad की शिक्षा देने के लिए प्रोत्साहित करेंगी और जब वे बड़े होंगे तो उन्हें अपनी पत्नियों के साथ सफल और खुश देखकर (जैसे आज मैं हूं!) खुशी महसूस करुंगी।

दरअसल एरियल #ShareTheLoad अभियान भारतीय समाज में मौजूद घरेलू असमानता को दूर करने के लिए शुरू हुआ है। वर्ष 2015 में, एरियल ने घरेलू कार्यों के असमान वितरण पर ध्यान आकर्षित करने के लिए एक बहुत ही प्रासंगिक सवाल उठाया- क्या केवल एक महिला का काम कपड़े धोना है? वर्ष 2016 में डैड्स शेयर द लोड ‘मूवमेंट के साथ, बातचीत का उद्देश्य असमानता के कारणों का पता लगाना था, जो कि एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक चलने वाला एक चक्र है। इस अभियान का पिछले कुछ वर्षों में काफी प्रभाव पड़ा है, और ज्यादातर पुरुषों ने पहले से कहीं अधिक भार साझा किया है। वर्ष 2015 में, 79% पुरुषों की सोचा थी कि घरेलू काम केवल महिलाओं के लिए है, वर्ष 2016 में, 63% पुरुषों का मानना था कि घर का काम एक महिला/बेटी का काम है और ‘बाहर’ का काम पुरुष/बेटे का है। वर्ष 2018 में, यह संख्या घटकर 52% हो गई है। प्रगति के बावजूद, अभी और काम किया जाना बाकी है। इस दिशा में #ShareTheLoad ने हाल ही में Sons # ShareTheLoad के साथ अभियान के तीसरे चरण की शुरूआत की है।

Follow by Email
Facebook
Google+
http://samacharsansaar.com/%E0%A4%8F%E0%A4%B0%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%B2-%E0%A4%A1%E0%A4%BF%E0%A4%9F%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%9C%E0%A5%87%E0%A4%82%E0%A4%9F-%E0%A4%A8%E0%A5%87-%E0%A4%AA%E0%A5%80%E0%A4%B5%E0%A5%80%E0%A4%86">
Twitter

Comments are closed.